Chandan Si Is Desh Ki
Pragya Geet Mala - All Songs

चन्दन सी इस देश की
चन्दन सी इस देश की माटी, तपोभूमि हर ग्राम हो।
हर नारी देवी की प्रतिमा, बच्चा-बच्चा राम हो॥

जिसके सैनिक समर भूमि में, गाया करते थे गीता।
यहाँ खेत में हल के नीचे, खेला करती थीं सीता॥
जीवन का आदर्श यहाँ पर, परमेश्वर का काम हो॥

यहाँ कर्म से भाग्य बदल देती श्रम-निष्ठा कल्याणी।
त्याग और तप की गाथाएँ , गाती थी कवि की वाणी॥
ज्ञान यहाँ का गंगा जल सा, निर्मल हो अभिराम हो॥

रही सदा मानवता वादी, इसकी संस्कृति की धारा।
मिलकर रहना सीखें मन्दिर, मस्जिद, गिरजा, गुरुद्वारा॥
मानवीय संस्कृति का फि र, सारे जग में गुणगान हो॥

हर शरीर मन्दिर सा पावन, हर मानव उपकारी हो।
क्षुद्र असुरता को ठुकरा दे, प्रभु का आज्ञाकारी हो॥
यहाँ सवेरा शंख बजाता, लोरी गाती शाम हो।

मुक्तक :-
भूमि भारत की, शहीदों का वतन है,
रंग-बिरंगे फूल से, महका चमन है।
ऋषि, मनीषी, सन्त, शासक की धरा यह,
जो यहाँ पाया न जाए, कौन सा ऐसा रतन है।


Comments

Post your comment
jaykantgupta
2013-12-21 08:11:29
jai gurudev
Info
Song Visits: 2677
Song Plays: 1
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:41