Chal Chal Chal O Sathi
Pragya Geet Mala - All Songs

चल चल चल ओ साथी
चल चल चल, ओ साथी चल॥
आज युग ने हमें पुकारा-पीर रोते हुओं की मिटाने।
दु:ख-भ्रम में भटकते हुओं को, रास्ता नेक सच्चा दिखाने।।
आसमानों पे उड़ती हवायें, तेरा स्वागत करेंगी ये राहें।
रुक गये हम अगर डर के मारे, दु:ख की छायेंगी अनगिन घटायें।।
इसलिये जागकर चल दो प्रहरी, सोये वीरों को जग में जगाने।।
ये धरा वीर जननी रही है, दे रहे युगपुरुष ये गवाही।
पुत्र ही फाड़ते माँ का आँचल, आज कैसी मची है तबाही।।
बढ़ के आगे ये दुनियाँ से कह दो, आ गये माँ की इज्जत बचाने।।
यूँ पढ़ो शास्त्र या गीता गाओ, लेके कुरान हाथों में आओ।
ग्रंथ साहब नूँ मत्था टेकाओ, याके बाइबिल को दिल से लगाओ।।
बनके इन्सां ओ अल्लाह के बन्दो,बनके इन्सां ओ ईश्वर के भक्तों ।
आओ, खुशियों का गुलशन खिलाने।।
बौद्ध धर्म- बुद्धं शरणम् गच्छामि, धम्मं शरणं गच्छामि,
संघम् शरणं गच्छामि।
जैन धर्म- णमो अरिहन्ताणम्, णमो सिद्धाणम् णमो
आयरियाणम्, णमो उवज्झायाणम्। णमो लोये
सव्वसाहूणम्।
सिक्ख धर्म- सदा सत् नाम बोलो, सदा सत् नाम।
सदा सत् नाम बोलो, राम-राम-राम बोलो।।
इस्लाम धर्म- अल्लाहू अकबर ला इलाह इल्लील्लाह मोहम्मद
रसूल्लील्लाह।
सनातन धर्म- वैष्णव जन तो तेणे कहिए पीर पराई जाणे रे।।

गायत्री महामंत्र- भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि
धियो यो न: प्रचोदयात्॥
प्रेरणा यह सभी मन्त्र देते, राह नेकी की सबको चलाने।
चल चल चल ओ साथी चल॥

मुक्तक :-
घृणा द्वेष की आग जल रही, स्नेह सलिल से उसे बुझाओ।
समता का संदेश सुनाकर, विश्व शान्ति का पाठ पढ़ाओ।।
भेद-भाव का भूत भगाकर, आपस में हम गले मिलें सब।
है वसुधा परिवार हमारा, यही मंत्र मिलजुलकर गाओ।।


Comments

Post your comment
Pankaj Kumar
2018-12-25 06:19:25
7765063679
Info
Song Visits: 3197
Song Plays: 2
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 12:25