Man Re Ban Ja Kushal
Pragya Geet Mala - All Songs

मन रे बन जा कुशल

मन रे बन जा कुशल किसान।
मानव जीवन खेत है उर्वर-अवसर को पहचान॥
भूमि बहुत बढिय़ा दी प्रभु ने-इसको खेत बना ले।
फसल समय पर बोये काटे-जो चाहे सो पा ले॥
इस सुविधा का लाभ उठा ले-मत बन तू नादान ॥
आदिशक्ति के अनुशासन से-घेरा बन्दी कर ले।
इससे फसल सुरक्षित होगी-श्रद्घा भीतर भर ले॥
यम भी इसको तोड़ न पाते-कहते सभी सुजान ॥
गुरु ने जो उपदेश दिये हैं-उनको बीज बना ले।
अपने खेत में बोकर उनको-फसल श्रेष्ठï उपजाले॥
इसमें उपजें ऋद्घि,सिद्घियाँ-ज्ञान और विज्ञान॥
खेत भले हो सबसे अच्छा-बीज श्रेष्ठï हो भाई।
खर-पतवार उगेगा निश्चित-करते रहो निदाई॥
अगर निराई से चूका तो-भोगेगा नुकसान॥
नर तन रूपी खेत न हरदम-तेरे पास रहेगा।
आज नहीं तो कल दाता ही-वापस यह ले लेगा॥
लगन लगाकर फसल उगा ले-बात हमारी मान॥

मुक्तक:-
फसल उगाई बहुत मनुज ने-फिर भी रहा विपन्न।
यदि जीवन की फसल उगायें-तो हो जायें धन्य॥


Comments

Post your comment
Priya Rathore
2014-05-22 09:51:08
this song is wonderful song this song tell abt the meaning of lyf
Mahesh
2012-07-06 19:51:08
I was seirosuly at DefCon 5 until I saw this post.
Toru
2012-07-05 04:06:37
I have been so bewlidreed in the past but now it all makes sense!
vipin mandloi
2012-03-25 08:11:23
graceful song
Info
Song Visits: 3306
Song Plays: 3
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 10:16