SAHI RUP UBHREGA US DIN
Pragya Geet Mala - All Songs

सही रूप उभरेगा उस दिन
सही रूप उभरेगा उस दिन, मानव के उत्थान का।
जिस दिन होगा मिलन विश्व मेंं, धर्म और विज्ञान का।।
परम्पराओं की तुलना में तब विवेक ही वन्दित होगा।
रूढि़वाद की रात्रि मिटेगी, नव प्रभात अभिनन्दित होगा।।
गूँजेगा सहगान मानवी, शक्ति और सद्ज्ञान का।।
रंग वर्ण जातीय भेद की, टूटेंगी, ओछी दीवारें।
नहीं साम्य का हनन करेंगी, सम्प्रदाय की विषम कगारें।
जागेगा देवत्व देहधर, तोड़ कवच पाषाण का।।
दिशाहीन उन्मत्त न होगी, भौतिकता की सिद्धि अधुरी।
तय कर लेगा विकसित जीवन, आध्यात्मिक मंजिल की दूरी।।
होगा सदुपयोग मंगलमय, हर विभूति अनुदान का।।
स्वार्थ नहीं परमार्थ बनेगा, चरम लक्ष्य जग में जन-जन का।
ईष्र्या, द्वेष,कलह, हिंसा से, कलुषित क्षेत्र न होगा मन का।।
परिमार्जन पुरुषार्थ करेगा, बिगड़े भाग्य विधान का।।
स्वस्थ सृजन का प्रेरक होगा, श्रद्धा और तर्क का संगम।
बुद्धि हृदय मिलकर छेड़ेंगे, वाणी की सुन्दरम् सरगम्।।
निखरेगा हर एक कला में, रूप नये इन्सान का।।
मुक्तक :-
हम अगर विज्ञान से, कल्याण के स्वर चाहते हैं।
और मानव धर्म की, गरिमा बढ़ाना चाहते हैं।।
तो हमें इनको परस्पर पास लाना ही पड़ेगा।
धर्म को विज्ञान का पूरक बनाना ही पड़ेगा।।


Comments

Post your comment
plasma
2014-08-13 10:44:19
Excellent
rataangill
2014-01-28 14:57:03
Ati sundar
Mahendra
2012-10-06 11:48:16
Misan ke gane sun sun kar man sant ho jata hea
Info
Song Visits: 3253
Song Plays: 1
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:35