He Hans Vahini Man He Sudhi Budhi Data
Pragya Geet Mala - All Songs

हे! हंसवाहिनी माँ
हे! हेसवाहिनी माँ, हे सृष्टि की विधाता।
हे! आद्यशक्ति जननी, हे शुद्ध बुद्धि दाता।।
आनन्द रूप सत्-चित्, सत्यम् शिवम्, तू सुन्दर।
अविचल, अनादि अमले, तू ब्रह्म है अगोचर।
तू विधि-वधू, रमा तू, तू ही उमा है दाता।।
कत्र्ता, विधाता, भर्ता, हरि, शम्भु नाशकारी।
अनघे अजातशत्रु, अमिताभ कला धारी।
हे पाप नाशनी माँ, तू वेद की है माता।।
तू राम-कृष्ण, सीता, सतरूपा, विधा राधा।
तू कल्पवृक्ष, माया, हरती है भव की बाधा।
करती है भय-हरण माँ, जो तुझको सदा ध्याता।।
सुर-मुनि को मोहिनी तू, शोभा की तू है धारा।
करुणामयी तू जननी, भक्तों का तू सहारा।
उस पर दया दिखाती, तेरी शरण जो आता।।
मुक्तक :-
ईश, प्रकृति, माया तुम्हीं, रवि, शशि, भू-संसार।
अमित रूप माँ आपके, निराकार,निराकार, साकार।।


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 8300
Song Plays: 0
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 5:23