Kisi Ke Kaam Aaye
Pragya Geet Mala - All Songs

किसी के काम जो आये
किसी के काम जो आये, उसे इन्सान कहते हैं।
पराया दर्द अपनाये, उसे इन्सान कहते हैं॥

कभी धनवान है कितना, कभी इन्सान निर्धन है।
कभी सुख है-कभी दु:ख है, इसी का नाम जीवन है।
जो मुश्किल में न घबराये, उसे इन्सान कहते हैं।।
यह दुनियाँ एक उलझन है, कहीं धोखा, कहीं ठोकर।
कोई हँस-हँस के जीता है, कोई जीता है रो-रोकर।
जो गिरकर फिर सँभल जाये, उसे इन्सान कहते हैं।।
अगर गलती रुलाती है, तो राहें भी दिखाती है।
मनुज गलती का पुतला है, वो अक्सर हो ही जाती है।
जो कर ले ठीक गलती को, उसे इन्सान कहते हैं।।
यों भरने को तो दुनियाँ में, पशु भी पेट भरते हैं।
लिए इन्सान का दिल जो, वही परमार्थ करते हैं।
पथिक जो बाँटकर खाये, उसे इन्सान कहते हैं।।

मुक्तक :-
दर्द का पीकर हलाहल, मुस्कुराना जिन्दगी है।
बच सके कोई अगर तो, चोट खाना जिन्दगी है।।
अगर किसी के काम न आए, कौन हमें इन्सान कहेगा।
गलती पर गलती दोहराए, कौन क्षमा का दान करेगा।।
मानव श्रेष्ठ कहा जाता है, केवल उसके आचारों से।
वही दुराचरण अपनाए, माफ नहीं भगवान करेगा।।


Comments

Post your comment
Banshidhar Pandey
2013-11-29 06:07:31
O mother You are with me always. This song is heart touching
Info
Song Visits: 2416
Song Plays: 3
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 6:01