Jivan Ban Tu Phul Saman
Pragya Geet Mala - All Songs

जीवन बन तू फूल समान
जीवन बन तू फूल समान।
पर उपकार, संगन्ध बिखेरें, करें सदा सुखदान।।

हृदय स्वच्छ हो खिल जा प्यारे-
पावन प्रेम हृदय में धारें।
सुखदाई हो सबको जग में-
पा सबसे सम्मान।। जीवन बन....।।
कठिन कण्टकों के घेरे में-
दारुण दुखदायी फेरे में।
पडक़र विचलित कहीं न होना-
बनना नहीं अंजान।। जीवन बन....।।
शत्रु-मित्र दोनों का हित हो-
ऐसा पावन तेरा व्रत हो।
भेद-भाव तजकर सबको दें-
जीवन मधु का दान।। जीवन बन...।।
दे तू सुरभि टूटने पर भी-
पैरों तले कूटने पर भी।
इस विधि से प्रभु की माला में-
पावे प्रिय स्थान।। जीवन बन....।।


Comments

Post your comment
promotion website
2012-10-28 15:20:33
नमस्ते वहाँ. मैं गूगल के माध्यम से अपने वेब साइट पाया, जबकि एक समान बात के लिए देख, अपनी वेब साइट यहाँ उठकर. यह अच्छा दिखाई देता है. मैं यह मेरे गूगल बुकमार्क्स में बुकमार्क बाद में वापस आना है.
Info
Song Visits: 1862
Song Plays: 5
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:01