Aisa Koi Suman Nahi Hai
Pragya Geet Mala - All Songs

ऐसा कोई सुमन
ऐसा कोई सुमन नहीं है, जो न खिला इस धरती पर।
कितना प्यार भरा है इसमें, शान्तिकुञ्ज कितना सुन्दर॥
पावन प्रेम पिता का इसमें, माँ का मधुर दुलार भरा।
स्नेह भरा भाई-भाई में, बहनों का सत्कार भरा॥
गूँजा करते गान यहाँ पर, मानवीय गौरव के स्वर॥
यहाँ अखण्ड ज्योति जलती है, जग उजियारा करती है।
अंधकार क र दूर आत्मा, में नूतन बल भरती है॥
संस्कृति के संदीप यहाँ पर, रहते हैं प्रतिपल भरकर॥
सेवा के संदेश रात-दिन, यहाँ पुकारा करते हैं।
यहाँ शत्रु तक अपने मन का, मैल बुहारा करते हैं॥
अद्र्घ निशा में गीत सुनाती, गंगा की कल-कल हर-हर॥
यज्ञ यहाँ की प्राणवायु में, बल-आरोग्य बढ़ाते हैं।
सविता नित नूतन किरणों से, जिसका मान बढ़ाते हैं॥
यहाँ स्वयं गायत्री माता, हाथ फेरती हैं सिर पर॥
एक बार आने से इसमें, मन भर जाया करता है।
बार-बार आने को फिर भी, जी ललचाया करता है॥
ऐसी ममता प्यार महत्ता, छाई रहती इस दर पर॥
मुक्तक :-
शांतिकुञ्ज की तपस्थली का, चलो चलें हम वन्दन कर लें।
नवयुग के सच्चे तीर्थस्थल का, अभिनव अभिनन्दन कर लें।।
आओ हम धरती पर ऐसी, स्वर्ग भूमि के दर्शन कर लें।
जहाँ मिटे भ्रम जहाँ जगें हम, उसका ही तीर्थाटन कर


Comments

Post your comment

2012-10-28 20:26:28
Maa ka sandes sare viswa ka udhar karti hai.
ravi pandit
2012-09-18 22:26:12
nice song
Prateek kumar
2012-04-12 19:58:19
GOOD SONG
vipin mandloi
2012-03-21 08:18:53
best song. very good song
Info
Song Visits: 4101
Song Plays: 3
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 8:29