Aao Mil Kar Kalash Dharo
Pragya Geet Mala - All Songs

ओ बहिनों माताओं आओ
ओ बहिनों माताओं आओ-आओ कलश धरो।
अपना सुख सौभाग्य जगाने, आओ भ्रमण करो॥
-आओ मिलकर कलश धरो॥

मुख में विष्णु, कंठ में शंकर, तल में ब्रह्मïा शक्ति भरे।
सप्तद्वीपमय वसुन्धरा सब, सिन्धु वेद भी वास करे॥
जीवन धन्य बनाने आओ, आओ कलश धरो।
दुर्गा शक्ति जगाने आओ, आओ कलश धरो॥
सतियों का अक्षत सुहाग हो, माताओं की गोद भरे।
घर-वर श्रेष्ठï मिले कन्या को, जो भी सिर पर कलश धरे॥
सब मिल भाग्य जगाओ अपना, आओ कलश धरो।
अपना सुख सौभाग्य जगाने, आओ कलश धरो॥
शान्ति विश्व में फैलायें सब, मानव का उद्धार करें।
नगर-नगर में, डगर-डगर में, प्रज्ञा का संचार करें॥
नवयुग का आमंत्रण देने, आओ कलश धरो।
माँ सीता, सावित्री आओ, जन उत्साह भरो॥
नारी शक्ति महान जगत की, यह सबको दिखलाना है।
लिए संदेशा नये सृजन का, द्वार-द्वार पर जाना है॥
युग धारा से जुड़ो देवियों, नवयुग सृजन करो।
अपनी सोई शक्ति जगाओ, युग निर्माण करो॥

मुक्तक-

बुला रहें हैं कलश देवता, मातृशक्तियों आगे आओ।
धारण करके इन्हें शीश पर, अपना सुख सौभाग्य बढ़ाओ॥


Comments

Post your comment
Rahul jindal
2018-12-26 16:52:39
Hourt touching song I like so much this song
Mahesh Patel
2018-11-28 15:43:50
Nice
Mahesh Patel
2018-11-28 15:42:58
Nice
Mahesh Patel
2018-11-28 15:42:17
Nice
Info
Song Visits: 2836
Song Plays: 3
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 8:29