Aaj Khatre Mein Apna Vatan
Pragya Geet Mala - All Songs

आज खतरे में अपना वतन साथियों,
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।।


आज खतरें में अपना वतन साथियों,
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।
खेल कर जान पर जो शहीदों ने ली,
वो ही आजादी मायूश करती है अब,
प्यार भारत की अनुपम सुहानी फिजा,
गंध बारूद से हाय डरती है अब,
है सिसकता वेचारा अमन साथियों।
बढ़ बांध सर पर कफन साथियों।।

आज खतरे में अपना वतन साथियों।
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।।

आज बिस्मिल भगत सिंह गांधी कहां,
लोभ लालच में आदर्श बिकते यहां,
स्वार्थ लोलुप बनी राजनीति नई,
ये है गांधी का भारत हो कैसे यकीन।
होता इन्सानियत का हवन साथियों,
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।

आज खतरे में अपना वतन साथियों।
बढ़ चलो बांध सर कफन साथियों।।

आज आया समय कुछ दिखायें नया,
फिर से लाये सुहाना समय जो गया,
लहलहाए धरा प्यार की धार से,
गंूजने जग लगे वेद गुंजार से,
महकने लगे जग चमन साथियों।
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।।

आज खतरे में अपना वतन साथियों।
बढ़ चलो बांध सर पर कफन साथियों।।


Comments

Post your comment
Juaco
2012-04-19 07:52:37
The truth just shines trhgouh your post
Info
Song Visits: 2508
Song Plays: 2
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 4:53