Har Yug Ka Itihas Uthao Yug Nirmata Rahee Jawanee
Pragya Geet Mala - All Songs

हर युग का इतिहास उठाओ!

हर युग को इतिहास उठाओ! युग निर्माता रही जवानी।
जब भी शिवसंकल्प किये हैं, स्वर्ग सृजेता रही जवानी।।

त्याग, तपस्या कर ऋषियों सी, उसने कायाकल्प किया था।
उसने राम-कृष्ण, गौतम व, महावीर का शिल्प किया था।।
तुलसी, सूर, कबीरा, नानक, सन्त प्रणेता रही जवानी।।

लेकिन जब-जब भी वह बहकी, रावण,कंस शिशुपाल दिये हैं।
आतंकी अपराधी बनकर, बढ़-चढक़र अपराध किये हैं।।
अरे! क्रूरता को अपनाकर, पीड़ादाता रही जवानी।।

व्यवसायी नेता, अभिनेता, सब गुमराह किये हैं उसको।
और धर्म के धन्धे वाले, अपने साथ लिए हैं उनको।।
कठपुतली बन उनकी उनका, भाग्यविधाता रही जवानी।।

जाग जवानी फिर अतीत की, गौरव-गरिमा बुला रही है।
वर्तमान की पतनावस्था, भारत माँ को रुला रही है।।
क्यों पीड़ादाता बनती है, तू तो त्राता रही जवानी।।

मुक्तक :-
जवानी दिशा पाकर, इस धरा पर स्वर्ग ला देती।
इसे मत भटकने दो, अन्यथा आफत मचा देगी।।
Pragya song to awakening Youth by taking inspiration from history where Youth involved in the changes.


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 2388
Song Plays: 2
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 8:52