Aaj Zaroorat Bharat Maa Ko
Pragya Geet Mala - All Songs

आज जरूरत भारत माँ को
आज जरूरत भारत माँ को, ऐसे वीर जवानों की।
परम्परा जो निभा सकें फिर, हँस-हँसकर बलिदानों की॥
नवयुग की वेला आयी है, उमड़ रही अरुणाई है।
अँगड़ाई लेती है धरती, लहराती तरुणाई है॥
गीत प्रभाती के गाकर माँ, तुमको आज जगाती है।
अग्रदूत बनना है युग का, ऐसा पाठ पढ़ाती है॥
मीठे सपने छोड़ थाम लो, डोर नये अभियानों की॥
वीर भूमि की ओ सन्तानों, पहचानों फिर अपने को।
पूर्ण करो तुम अब इस युग के, भारत माँ के सपनों को॥
शंकर, ज्ञानेश्वर, गौतम की, आत्मा तुम्हें बुलाती है।
सीता, अनुसुइया, दुर्गा की, परम्परा अकुलाती है॥
ले संकल्प पूर्ति करनी है, उन सबके अरमानों की॥
बलिदानी मिट्टी ने तुमको, भरकर आँख पुकारा है।
और हिमालय की चोटी से, ऋषियों ने ललकारा है॥
तुममें साहस हो कुछ भी तो, मोह छोड़ आगे आओ।
देवभूमि की गरिमा लेकर, भूमण्डल पर छा जाओ॥
तुम हो उनके अंश कि जिनने, गति मोड़ी तूफानों की॥
मुक्तक-
जवानी शौर्य की बलिदान की, प्रेरक कहानी है।
नये युग के सृजन में फिर, उसे जीवट दिखानी है॥
राष्ट्र की अस्मिता ने फिर, जवानी को पुकारा है।
विश्व नेतृत्व करने की, पुन: क्षमता जगानी है॥
Very inspiring Song for current need of Country.


Comments

Post your comment
vivek
2014-08-11 20:32:40
very nice song
Mukesh patidar
2014-08-05 10:44:34
no. 1
Info
Song Visits: 5664
Song Plays: 6
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 5:56