loadCommonFile(); $CSS->loadCommonFile(); ?>
Rahen Nayi Dikha Jata Jo
Pragya Geet Mala - All Songs

राहें नई दिखा जाता जो, दु:ख से भरे जहान को।
ढूँढ़ रही है कब से दुनियाँ, उस सच्चे इन्सान को॥

अँगारों पर चलने वाला, दीप शिखा सा जलने वाला।
जिसने पिया जहर का प्याला, पर बाँटा जग को उजियाला॥
आँच नहीं आने दी जिसने, संकट में भी आन को॥

जिसने औरों को अपनाया, मानवता का मान बढ़ाया।
हँसकर कण्टक पथ अपनाया, स्वेद बहा सागर भर आया॥
यश की बात न भाई जिसको, जीत लिया अभिमान को॥

जिसने सुख की बात न जानी, तूफानों से हार न मानी।
अंगद सा निश्छल अभिमानी, निर्धन किन्तु कर्ण सा दानी॥
तैराकर जिसने दिखलाया, जल में भी पाषाण को॥

जीवन जो कर्मों में बीता, नहीं प्यार का पनघट रीता।
जिसका जीवन तप की गीता, लोभ मोह को जिसने जीता॥
कर साकार दिखाया जिसने, तन में ही भगवान को।
Song give review about sacrifices for welfare.Inspirational Song,World where searching for a perfect person.


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 1400
Song Plays: 0
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 3:16