Jo Swayam Bahut Nirbal Hai
Pragya Geet Mala - All Songs

जो स्वयं बहुत निर्बल है, औरों को क्या बल देगा।
गिर पड़े स्वयं, कैसे वह, गिरतों को थाम सकेगा॥
औरों को पार लगाये, हो अगर प्रबल अभिलाषा।
जब स्वयं तैरना सीखो, तो पूर्ण हो सके आशा॥
नव गतिविधियाँ अपना लो, तो नवल सृजन हो जाये॥

तुम सबको अपनालो तो, सब तुमको अपनायेंगे।
तुम नहीं डरो बाधा से, सब निर्भय हो जायेंगे॥
इच्छा हो-सभी सुखी हों, तो गीत खुशी के गाओ।
यदि करना है दीवाली, आगे बढ़ दीप जलाओ॥
तुम आगे चलो अगर तो, पीछे सारा जग आये॥

यदि विश्वक्रान्ति वांछित हो, तो स्वयं प्रथम आहुति दो।
पहले निज चरण बढ़ाओ, कुण्ठाओं को जागृति दो॥
पहले विकार मेटो तो, जग के विकार का क्षय हो।
पलटो विचार की धारा, मानव की विश्वविजय हो॥
निर्माण स्वयं का कर लो, तो युग निर्मित हो जाये॥
Songs tell us about man,purity of mind and advantages.


Comments

Post your comment
Surya
2012-12-30 22:59:07
This songs truly reflects the ideology of Swami Vivekananda, that we are capable to transform ourselves into extra-ordinary performance human beings, by directing our thought potential towards higher goals of life
bherulal hammad
2012-06-22 12:06:14
jhakjhor dene vala geet
Info
Song Visits: 2197
Song Plays: 1
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 3:08