Vishwa Hamara Dharati Apni
Pragya Geet Mala - All Songs

विश्व हमारा धरती अपनी

विश्व हमारा धरती अपनी, विश्वपिता के लाल।
नया संसार बसायेंगे, नया इन्सान बनायेंगे।।

सौ-सौ स्वर्ग उतर आयेंगे, सूरज सोना बरसायेंगे।
खुशहाली के लिये पहनकर, जीवन की जयमाला।।
नया त्यौहार मनायेंगे। नया इन्सान बनायेंगे।।

एक करेंगे मानवता को, सींचेंगे ममता-समता को।
श्रेय साधना की असि लेकर, नैतिकता की ढाल।।
भूमि का भार मिटायेंगे।। नया इन्सान बनायेंगे।।

धारण करके मन्त्र सुमति का, अपनायेंगे मार्ग प्रगति का।
प्रेमभाव विस्तार करेंगे, सबको सदा निहाल।।
नया विश्वास जगायेंगे।। नया इन्सान बनायेंगे।।

सत्यम् शिवम्, शुन्दरम् के स्वर, गूँजेंगे आदर्श धरा पर।
यह ऋषियों का देश हमारा, जिसकी नहीं मिसाल।।
नया परिवार बनायेंगे।। नया इन्सान बनायेंगे।।

परम पिता की छाया होगी, दूर अविद्या माया होगी।
ले संस्कृति की विजय पताका, मानव धर्म मशाल।।
तिमिर को मार भगायेंगे।। नया इन्सान बनायेंगे।।
मुक्तक :-
खूब बढ़ा विज्ञान किन्तु क्यों, भ्रातृ भावना सिकुड़ गयी।
भू खण्डों में बँट जाने से, शक्ति हमारी बिखर गयी।।
भारत माँ के पुत्रों जागो, आज हमारी बारी है।
पुन: विश्व परिवार बनाने, की करनी तैयारी है।।
Pragya Song on mother land and whole world.


Comments

Post your comment
vipin mandloi
2012-03-28 16:38:17
graceful song
Info
Song Visits: 2444
Song Plays: 1
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 6:57