Janm Liya Awalkheda Me
Pragya Geet Mala - All Songs

जन्म लिया आँवलखेड़ा में
जन्म लिया आँवलखेड़ा में, सारा जगत् निहाल किया।
हे युगऋषि श्रीराम आपने, सचमुच बड़ा कमाल किया।।
बचपन से ही थे तेजस्वी, कर्म तुम्हारे सब ओजस्वी।
स्वतन्त्रता सैनिक बन धाये, मस्त रहे और मत्त कहाये।।
सैनिक, सन्त, तपस्वी, खुद को, हर साँचे में ढाल लिया।।
तुम दुनियाँ की पीर पी गये, युग के सच्चे पीर हो गये।
तपा दिया अपने जीवन को, जीवन कला सिखाई जग को।।
दीन दु:खी को गले लगाकर, जन-जन को खुशहाल किया।।
तुम्हें हिमालय अति प्यारा था, जीवन वैसा ही न्यारा था।
दुनियाँ भर की हर ऊँचाई, तुमने छोटी कर दिखलाई।।
छोटे से छोटे जीवन को, ऊँचा खूब उछाल दिया।।
दिव्य ज्ञान धरती पर लाये, युग के भागीरथ कहलाये।
मानव में देवत्व जगाने, इस धरती को स्वर्ग बनाने।।
मानवता को दिव्य सम्पदा, देकर मालामाल किया।
तप से सूक्ष्म जगत् शोधित कर, नये सृजन की शक्ति जगाकर।
बदल गये दुनियाँ की धारा, दे उज्जवल भविष्य का नारा।।
महाकाल बन करके तुमने, अपने वश में काल किया।।
मुक्तक :-
महाकाल के अवतारी तुम, अजर-अमर वरदानी।
गहन तपश्चर्या से जिनने, नये सृजन की ठानी।।
कोटि-कोटि हृदयों तक पहुँची, जिनकी अमृतवाणी।
नूतन सृष्टि बनाकर तुमने, लिख दी अमर कहानी।।


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 2780
Song Plays: 1
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 11:19