Om Namah Namo Omkar
Pragya Geet Mala - All Songs

ओऽम नम: नमो ओंकार
ओऽम नम: नमो ओंकार, हे त्रिगुणात्मक जगदाधार।।

भू प्राणों में प्राण विधाता, घट-घट वासी ओऽम्।
भुव: सकल दु:ख भञ्जन पालक,हे अविनाशी ओऽम्।।

स्व: सुखकर आनन्द प्रदाता, जीवन दाता ओऽम्।
तीन लोक में बसे निरंतर, जगत् विधाता ओऽम्।।

तत् वह तत्व, ज्ञान-विज्ञान, विधायक स्वामी ओऽम्।
सविता, तेज शक्ति के दाता, अन्तर्यामी ओऽम्।।

भर्गो पाप-ताप दु:ख हर्ता, जग हितकारी ओऽम्।
हे देवस्य दिव्य गुणदायक, मंगलकारी ओऽम्।।

धीमहि धारण कर जीवन में, नित-नित ध्यावे ओऽम्।
धियो सुबुद्धि विवेक ज्ञान की, ज्योति जगाये ओऽम्।।

योन: अन्तर्यामी बोधक, भाग्य विधाता ओऽम्।
प्रचोदयात् प्रेरणा पावन, सद्गति दाता ओऽम्।।
मुक्तक :-
ओऽम इति अक्षर ब्रह्म है, निराकार-साकार।
गायत्री के संग जपो तो, कर देगा भवपार॥


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 3923
Song Plays: 4
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:06