Gurucharno Mein
Pragya Geet Mala - All Songs

गुरु चरणों में आकर देखो

गुरु चरणों में आकर देखो-सब कलह क्लेश मिट जाते हैं।
अन्तर निर्मल हो जाता है-भवशूल कभी न सताते हैं॥

जब प्राण दु:खी होते जग के-मर्मान्तक हाहाकारों से।
जब बीच भँवर में नाव अलग-हो जाती है पतवारों से॥
संसार सिन्धु से तब गुरु ही-कर गहकर पार लगाते हैं॥

जब पीर हृदय को मथती है-दु:ख छा जाते मानस तन पर।
दुनियाँ के झंझट सहन नहीं-कर पाते हम अपने बल पर॥
तब काट हमारे पापों को-गुरु शान्ति सुधा बरसाते हैं॥

जब भेद नहीं हम कर पाते, सच-झूठ भरे उलझाओं में।
जब मार्ग नहीं हम चुन पाते-आसक्तिपूर्ण भटकावों में॥
उस चक्रव्यूह से सद्ïगुरु ही-निर्णय कर हमें बचाते हैं॥

जग को, प्रभु को, और आत्मा को-केवल गुरु ने ही जाना है।
सन्तों ने इसीलिए गुरु को-प्रभु से भी ऊँचा माना है॥
हम गोविन्द से पहले गुरु के-चरणों मेें शीश झुकाते हैं॥

मुक्तक-
सगुद्गुरु का दरबार अनूठा-प्राण पिलाये जाते हैं।
दैहिक, दैविक, भौतिक तीनों-ताप मिटाये जाते हैं॥
है श्रद्धा विश्वास न जिनमें-उन भटकों का क्या कहना।
वरना मझधारों वाले भी-पार लगाये जाते हैं॥
Songs give review about lotus feet of gurudev.Devotee find completeness on lotus feet.How mercy of gurudev is essential on spiritual path.


Comments

Post your comment
shyam sunder negi
2014-08-17 17:48:10
sung by heart very nice
ambadatt
2014-04-01 17:57:23
GOOD
Info
Song Visits: 2724
Song Plays: 6
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:29