Bilakh Rahe
Pragya Geet Mala - All Songs

बिलख रहे होते सारे प्राणी

बिलख रहे होते सारे प्राणी-कहीं न कोई भी चैन पाता।
न प्यार होता न प्रीति होती-अगर कहीं तुम न होती माता॥

तुम्हीं से धरती ने प्यार पाया-
तुम्हारी करुणा से जग नहाया।
तुम्हीं ने आँचल से पय पिलाकर-
मनुज को इतना बड़ा बनाया॥
भटक रही होती तम में दुनियाँ-
कहीं उजाला नज़र न आता॥ अगर कहीं तुम...॥

दृगों से तेरे ही नीर झरकर-
है बन गया दूरतम समन्दर।
हवाओं में गूँजता सदा ही-
तुम्हारी करुणा का दिव्य निर्झर॥
कभी न बदले में कुछ भी माँगा-
पवित्र कितना है तेरा नाता॥ अगर कहीं तुम...॥

मलिन हृदय में न भाव किञ्चित-
तथापि चरणों में हम समर्पित।
बड़ी अधूरी है मेरी पूजा-
जो कुछ भी है माँ तुम्हें समर्पित॥
गिरे हुओं को उठा लो जननी-
न कोई तुम सा है और त्राता॥ अगर कहीं तुम...॥

मुक्तक-
भावों के अतिरिक्त हे माता, और करें क्या तुमको अर्पित।
माता के चरणों में हम सब, करते श्रद्धा सुमन समर्पित॥
Devotional song!! Song give overlook about devotee carriying bhavana ,shhrdha.


Comments

Post your comment
omeshwar sepat
2013-11-09 18:37:23
very nice song
Info
Song Visits: 2639
Song Plays: 10
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 7:34