loadCommonFile(); $CSS->loadCommonFile(); ?>
Ek Tumhi Aadhar
Pragya Geet Mala - All Songs

एक तुम्हीं आधार सद्गुरु
एक तुम्हीं आधार सद्गुरु।
एक तुम्हीं आधार॥

जब तक मिलो न तुम जीवन में।
शान्ति कहाँ मिल सकती मन में।
खोज फिरा संसार सद्गुरु॥

कैसा भी हो तैरन हारा।
मिले न जब तक शरण सहारा।
हो न सका उस पार सद्गुरु॥

हे प्रभु! तुम्हीं विविध रूपों में।
हमें बचाते भव कूपों से।
ऐसे परम उदार सद्गुरु॥

हम आये हैं द्वार तुम्हारे।
अब उद्वार करो दु:खहारे।
सुनलो दास पुकार सद्गुरु॥

छा जाता जग में अंधियारा।
तब पाने प्रकाश की धारा।
आते तेरे द्वार सद्गुरु॥

मुक्तक:-
बीच भँवर में नाव हमारी, कोई न खेवनहार।
नैया कर दो पार सद्गुरु, एक तुम्हीं आधार॥


Comments

Post your comment
Info
Song Visits: 14684
Song Plays: 12
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 5:42