Guru Hi Naiya Guru Khivaiya
Pragya Geet Mala - All Songs

गुरु ही नैया, गुरु खिवैया
गुरु ही नैया, गुरु खिवैया, कर देते भवसागर पार।
सद्गुरु सब, भवबन्धन काटें, भक्तों का करते उद्धार।।

गुरुसत्ता से जग संचालित, शोभित चाँद सितारे।
हृदयों में शुभ भक्ति जगाकर, गुरु भक्तों को तारे।।
गुरु ही हैं सौभाग्य हमारे, गुरुवर वेद शास्त्र का सार।।

सुख के सागर प्यारे सद्गुरु, गुरु ही प्रेम के आगर।
ज्ञानाञ्जन, गुरुदेव लगावैं, गागर में वे सागर।।
गुरुवर साधक के हितसाधक, ईश्वर से गुरु जोड़े तार।।

कामधेनु बन करके गुरूवर, शिष्यों का करते कल्याण।
गुरुसत्ता ही माता बनकर, शिष्यों का करती निर्माण।।
सद्गुरु ही वरदान हमारे, गुरु की महिमा अपरम्पार।।

गुरु हैं हितकारी सज्जन हित, दुष्टों के हित वहीं दण्ड हैं।
पापों का गुरु खण्डन करते, रुद्ररूप वे बल प्रचण्ड हैं।।
गुरुवर ही हों लक्ष्य हमारे, सद्गुरु हम सबके करतार।।

मुक्तक :-
जीवन नौका सौंप दो, गुरु ही पार लगावे।
गुरु चरणों की शरण पा, धन्य-धन्य हो जाये॥
भवसागर संसार है, गुरु हैं खेवनहार।
गुरु की नाव में जो भी बैठे, हो जावे भव पार॥


Comments

Post your comment
khileswar Prasad
2014-10-10 21:57:27
Really me guru hi naiya guru hi khivaiya
Arunodaya Dwivedi
2014-04-28 17:11:58
Jai Gurudev.
vipin mandloi
2012-03-23 20:53:27
graceful song
Info
Song Visits: 2820
Song Plays: 7
Song Downloaded : 0
Song
Duration : 6:53